in

आज केएमपी जाम करेंगे किसान : राकेश टिकैत की अपील- शांति बनाए रखें 

Sharing Is Caring

Kisan Post: सरकार पर दबाव बनाकर बातचीत का रास्ता खोलने के लिए किसान शनिवार को केएमपी जाम करेंगे। इसके लिए ज्यादा से ज्यादा किसानों से पहुंचने और युवाओं से शांति बनाए रखने की अपील की जा रही है। 

किसान सुबह शनिवार को सुबह 11 बजे से शाम 4 बजे तक केएमपी को कई जगह से जाम रखेंगे। जिससे वाहन चालकों को परेशानी उठानी पड़ सकती है। वहीं भाकियू नेता राकेश टिकैत शुक्रवार को कुंडली बॉर्डर पर किसानों के बीच पहुंचे। जहां उन्होंने केएमपी जाम करने को सफल बनाने के लिए कहा और इस दौरान शांति व्यवस्था बनाए रखने की अपील की।

कृषि कानूनों में संशोधन को तैयार सरकार, राजनीति कर रहा है विपक्ष: नरेंद्र सिंह तोमर

राकेश टिकैत ने कहा कि किसान आंदोलन में किसी भी तरह से अशांति नहीं होने देनी है, क्योंकि सरकार उसका फायदा उठा सकती है। इसके अलावा खेड़ा बॉर्डर पर जहां किसान कल दमन विरोधी दिवस मनाएंगे। वहीं जींद के खटकड़ व बद्दोवाल टोल पर किसानों का धरना जारी है। किसानों ने शनिवार को काला दिवस मनाने को लेकर रणनीति बनाई।

किसानों ने संयुक्त किसान मोर्चा हरियाणा बनाया

किसान आंदोलन को नई धार देने के लिए हरियाणा के 40 किसान संगठनों ने एक मंच पर आकर संयुक्त किसान मोर्चा हरियाणा बनाया है। टीकरी बॉर्डर पर शुक्रवार को आयोजित इसकी पहली बैठक में भारतीय किसान यूनियन (चढूनी) के गुरनाम सिंह चढूनी ने भी शिकरत की। इस दौरान हरियाणा में किसान आंदोलन को तेज करने के लिए रणनीति बनाई गई।

डीएम से चार्ज हटा,डिप्टी सेक्रेटरी को एनसीजेडसीसी निदेशक का प्रभार

महिला दिवस पर सिंघु बॉर्डर पहुंचेंगी महिलाएं

इंदरजीत सिंह ने कहा कि इतिहास में पहली बार ऐसा आंदोलन हो रहा है, जिसमें महिलाएं पूरी तरह से भागीदारी कर रही हैं। आठ मार्च को महिला दिवस पर बड़ी संख्या में महिलाएं सिंघु बॉर्डर पहुंचेंगी। हरपाल सिंह ने कहा कि किसानों के ट्रैक्टर आज भी थानों में खड़े हैं, जिन्हें तोड़ दिया गया। हरियाणा की आजाद पार्टी के घर ईडी ने इसलिए छापेमारी की, क्योंकि उन्होंने किसानों का खुलकर समर्थन किया। इसके अलावा किसानों का सहयोग करने वाले दिल्ली के कई मीडियाकर्मियों पर भी मामले दर्ज किए गए।

करणजीत सिंह ने कहा कि डेढ़ सौ से ज्यादा वकील गिरफ्तार किसानों को निशुल्क कानूनी सेवाएं दे रहे हैं। वकीलों ने तीनों कृषि कानूनों को रद्द करने, गिरफ्तार किसानों को रिहा करने, झूठे मुकदमे वापस करने और न्यायिक जांच कराने की मांग उठाई।


Sharing Is Caring

What do you think?

Written by kisan post

Comments

Leave a Reply

Loading…

0
Kisan-post-narendra-singh

कृषि कानूनों में संशोधन को तैयार सरकार, राजनीति कर रहा है विपक्ष: नरेंद्र सिंह तोमर

rakesh-tikait-kisan-post

पूर्वांचल में राकेश टिकैत: गाजीपुर में बोले- नए कृषि कानून से देश पर व्यापारियों का हो जाएगा कब्जा